जबसे तुम्हे चाहा है, किसी और को देखने का मन नहीं करता ।

जबसे तुम्हे चाहा है, किसी और को देखने का मन नहीं करता ।

Jabse Tumhe Chaha hai, Kisi Or ko Dekhne Ka Mann Nahi karta

Visit ShayariStatus.Online for More Shayari.
Our Instagram and Twitter Account

Show Some Love...

Leave a Comment